गुरुवार, 7 जुलाई 2016

मिश्री की डली

मन की ज़मीं पर
कुछ नमक की डलियाँ थी
ना जाने 
कब आई
कहाँ से आई
पता ही नहीं चला
कब मैं इस 
नमकीन से स्वाद को
अपनी नियती 
मान बैठी
लेकिन
अबकि, जब बरसा पानी जम के
ये नमकीन सी डलियाँ
क़तरा सा पिघली
एक दिन 
दो दिन
तीन दिन
हफ़्तों तक बरसता रहा पानी
नमी पाकर नमक भी पिघल गया
पूरा का पूरा
और
जब धुप निकली
तो ना नमक था 
ना कोई निशाँ
ठंडी हवा ने मन को छुआ
दिल खिल गया
ना जाने कहाँ से
ये हवा ले आई 
एक बीज नन्हा सा
और 
गिरा दिया मन की ज़मीं पर
अब
नमकीन डलियों की जगह
कुछ अंकुरित होगा
मीठा सा....
बिल्कुल मिश्री की डली सा